Normal view MARC view ISBD view

क्रूरता (Kroorta) /

by अंबुज, कुमार (Ambuj, Kumar)
Edition statement:2nd ed. Published by : Rajkamalprakashan, (Delhi :) Physical details: 108 p. ; 23 cm. ISBN:9788183619028 (hbk.). Year: 2019
Tags from this library: No tags from this library for this title. Log in to add tags.
Item type Current location Call number Status Date due Barcode Item holds
Books Books Azim Premji University, Bangalore
General Stacks
891.431 AMB (Browse shelf) Available 46509
Total holds: 0

नागरिक पराभव -- डर -- उजाड़ -- मुलाकात चाय की गुमटी -- क्रूरता -- चँदेरी -- बाज़ार -- इन दिनों हर रोज़ -- दौड़ -- यदि मैं नट होता -- शहद -- चुपचाप -- थकान -- दुःख -- मेरी पुरानी जगह -- उसी रास्ते पर -- अवसाद में एक दिन मैं -- रात में पुलिया पर -- मुनादी -- बुद्ध -- इस समय में -- याददाश्त -- एक मिनट में दायित्व -- एक दिन

'क्रूरता' संग्रह की कविताएँ अपने प्रकाशन के साथ ही ध्यानाकर्षण का केन्द्र बन गई थीं। ये कविताएँ हमारे समय में नागरिक होने के संघर्ष, चेतना और व्यथा को गहरे काव्यात्मक आशयों के साथ विमर्श का विषय बनाती हैं। इसी क्रम में कुमार अंबुज, हिन्दी कविता में पहली बार, क्रूरता' पद को व्यापक सामाजिक एवं राजनैतिक अर्थों में, ऐतिहासिक समझ के साथ व्याख्यायित और परिभाषित करते हैं। यहीं वे काव्य-विषयों की कोमल और सकारात्मक समझी जानेवाली पदावली की परिधियों को भी तोड़ते हैं । उचित ही प्रबुद्ध आलोचकों-पाठकों ने इन कविताओं को 'विडम्बना के नए आख्यान' तथा 'विचारधारा के सर्जनात्मक उपयोग' का उदाहरण माना है। ये कविताएँ भाषा के सम्प्रेषणीय प्रखर मुहावरों, अभिव्यक्ति के संयम और वर्णन की चुम्बकीय शक्ति के लिए भी पहचानी गई हैं। कवि-कर्म की नई चुनौतियों का स्वीकार यहाँ स्पष्ट है। ये कविताएँ हमारे समय में उपस्थित तमाम क्रूरताओं की शिनाख़्त करने का गम्भीर दायित्व उठाती हैं। यही कारण है कि वे पाठक की चेतना में प्रवेश कर वैचारिक स्तर पर उदल्विग्न करती हैं। सांस्कृतिक प्रतिरोध की दृष्टि से सम्पृक्त ये कविताएँ अनुभवों के वैविध्य और विस्तार में जाकर एकदम अछूते काव्यात्मक वृत्तान्तों को सम्भव करती हैं। जो कुछ न्यायपूर्ण है, सुन्दर है, सभ्य सामाजिक विकास के लिए आवश्यक है, उसे पाने की आकांक्षी और पक्षधर ये कविताएँ सहज ही साम्राज्यवादी, औपनिवेशिक, उपभोक्तावादी, साम्प्रदायिक और पूँजीवादी शक्तयों को अपने सूक्ष्म रूप में भी उजागर करती हैं। 'क्रूरता की संस्कृति' को चिह्नित करते हुए वे संवेदना, मनुष्यता, लौकिकता और करुणा का विशाल फलक रचती हैं, अपने काव्यात्मक अभीष्ट तक पहुँचती हैं।

There are no comments for this item.

Log in to your account to post a comment.

Teachers Portal | ERP Portal |Sitemap | Credits | Facebook | Youtube© 2017 Azim Premji Foundation | DISCLAIMER